गोलक के उपर विज्ञान

साइन्स ऑन ए स्फेयर(SOS) – आंचलिकविज्ञानकेंद्र,गुवाहाटीमें एक नई सुविधा जोड़ी गई।इस पर्दशन के माध्यम से हमे पृथ्वी के गतिशील पर्यावरण प्रक्रिया के साथ-साथ खगोलीय वस्तु को डिजिटल अनुरुपण करने का सुनहरा अवसर प्रदान करता है।

श्री सरबानंद सनुवाल, माननीय मुख्य मंत्री, असम ने 15 मार्च,2018 को माननीय मंत्री श्री केशब महंत, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, असम सरकार, और अन्य गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति में नई सुविधा का उद्घाटन किया।

पृथ्वी बाह्य अंतरिक्ष से कैसे दिखती है? क्या आपने कभी अंतरिक्ष से देखा है?

यह छत से निलंबित 6 फीट व्यास वाला ग्लोब है। जिसकी सतह को घूमने वाली छवियों को इसके चारों ओर लपेटने की अनुमति देता है। सिस्टम द्वारा उपयोग किए जाने वाले 500 से अधिक डेटासेट हैं जिनमें से लगभग 50 वास्तविक समय हैं। सिस्टम में डेटासेट उपग्रहों से प्राप्त किए जाते हैं और पृथ्वी पर नवीनतम वायुमंडलीय स्थिति को पेश करने के लिए लगातार अपडेट किए जाते हैं।

यहास्थापित किया गया यंत्र के माध्यम से नेशनल एरोनाँटिक्स एंड स्पेस एडमिनस्ट्रेशन (NASA) और नेशनल असेनिक एंड ऐटमस्फिरिक एडमिनस्ट्रेशन (NOAA) के कृत्रिम उपग्रह समुह से लिया गया डेटा को संग्रह करके दृश्य के रुप में पर्दशन किया गया हैं। यह डेटा के मदद से हम पृथ्वी की सतह का ही नही सूरज, चन्द्रमा और अन्य ग्रहों की सतह को भी वास्तविक आकार मे पर्दशन किया जा सकता हैं। यह विशाल डेटाबेस ज्ञान का भंडार है और प्रदर्शन के माध्यम से ग्रहं को और नजदीक से जानने में मदद करता हैं।

  • पर्दशन समय : सबह11:00, दोपहर 1:00,3.00,औरशाम 5:00 बजे
  • प्रवेश शुल्क : संगठित स्कूल समूह 20/- रुपये (प्रति व्यक्ति)
    : आम दर्शक 30/- रुपये(प्रति व्यक्ति)
  • सीट की क्षमता: 80 +
  • विशेष पर्दशन उनके सुविधाजनक समय पर स्कूल समूहों के लिए भी व्यवस्थित किया जा सकता है।

SCIENCE ON A SPHERE(SOS) SCIENCE ON A SPHERE(SOS) SCIENCE ON A SPHERE(SOS) SCIENCE ON A SPHERE(SOS) SCIENCE ON A SPHERE(SOS)
 
SCIENCE ON A SPHERE(SOS)        
         
कॉपीराइट 2015, @ आंचलिक विज्ञान केन्द्र,  
web.com (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड द्वारा संचालित है