दर्पण जादू
मनुष्य के आविष्कारों में से दर्पण शायद सर्वाधिक कुतूहलकारी है, चूँकि यह हमारी चेतना से घनिष्ठ रूप से जुड़ा हुआ है, सच्चाई और भ्रम दोनों के साथ हमें परावर्तित करता है । आंचलिक विज्ञान केन्द्र, गुवाहाटी में दर्पण जादू दीर्घा दर्पणों के साथ निर्मित यथार्थ और भ्रम की सुंदर प्रदर्शनी है । दर्पण जादू दीर्घा प्रकाश और परावर्तनों के उत्सव का समारोह है । तीस अन्त: क्रियात्मक प्रदर्शों, जो दर्पण, परावर्तन और प्रकाश विज्ञान का अन्वेषण करते हैं, को देखकर दर्शक परावर्तन के माध्यम से तस्वीरों की दुनिया में आश्चर्य चकित हो जाते हैं । वक्र दर्पणों में वे अपनी तस्वीरें परावर्तित करा सकते हैं और देख सकते हैं कि उनकी शारीरिक बनावट किस प्रकार अनोखे आकार धारण कर लेती है ।

प्रदर्शनी में सुंदर दर्पण से भरे कमरे तथा भूल-भूलैया हैं जहाँ आपकी सैकड़ों तस्वीरें आपकी ही पहचान उलझा सकती हैं, और भूल-भलैया से बाहर आते हुए इसके फर्श की योजना से निकलते हुए आप अवश्य गलती कर बैठेंगे । असंख्य परावर्तनों की चालाकी के कारण आप हवा मे लहराते हैं या यह ऐसा भ्रम रचता है कि आप लम्बवत् दीवार पर रेंगेते होते हैं, यद्यपि, वास्तव में आप फर्श पर सिर्फ टहल रहे होते हैं ।

इस मजेदार और अविश्वसनीय दर्पणों और शीशों के आदम कद प्रदर्शों के माध्यम से गुजरते हुए आप आश्चर्य कर अनुभव करते रहें ।

In the right light, at the right time, everything is extraordinary
         
कॉपीराइट 2015, @ आंचलिक विज्ञान केन्द्र,  
web.com (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड द्वारा संचालित है